Education & Training

Shocking Scientific Inventions by ancient Saints!

Must Read…

Shocking Scientific Inventions by ancient Saints!

Shocking Scientific Inventions by ancient Saints!

Categories: Education & Training, Life Style, Ready Reckoner | Leave a comment

The One Big Diet Mistake That is Keeping You From Losing Fat

carbs

In the day were nutrition information and research are so abundant, it still baffles me that there is still so much misinformation out there about what ‘healthy eating’ actually is. I was just reading the other night in one of my nerdy health books that a lot of doctors are still recommending their diabetic, overweight, and obese patients to cut back on sugars but to keep eating carbohydrates. Continue reading

Categories: Education & Training, Food & Diet, Holistic Healing, Home Remedies, Life Style, Nature Cure | Leave a comment

Course on Natural Healing Techinques

Learn the Course with 75% off. Interested people can provide their Email ID in Comment Box for Bank Details and Get a coupan code for the same after clearance of Payment – https://www.udemy.com/basics-of-health-improvement-naturally/

0 Health In Hand Continue reading

Categories: Education & Training, Food & Diet, Holistic Healing, Home Remedies, Life Style, Meditation, Nature Cure, Ready Reckoner, Yoga & Pranayam | Leave a comment

ब्राह्मणत्व की रक्षा परम आवश्यक है

श्रद्धेयजयदयाल गोयन्दका सेठजी, तत्व चिंतामणि पुस्तक से, गीताप्रेस गोरखपुर

नारायण ! नारायण !! नारायण !!! नारायण !!! नारायण !!!

हिंदू जाति की आज जो दुर्दशा है,वह पराधीन है, दीन है, दुखी है और सभी प्रकार से अवनत है; इसके कारण पर विचार करते समय आजकल कुछ भाई ऐसा मत प्रकट किया करते है की वर्णाश्रम-धर्म के कारण ही हिन्दू जाति की ऐसी दुर्दशा हुई है ।

वर्णाश्रम-धर्म न होता तो हमारी ऐसी स्थिति न होती । परन्तु विचार करने पर मालूम होता है की इस मत को प्रकट करने वाले भाईओ ने वर्णाश्रम-धर्म के तत्व को वस्तुत: समझा ही नहीं है ।

सच्ची बात तो यह है की जब तक इस देश में वर्ण आश्रम-धर्म का सुचारू रूप से पालन होता था । तब तक देश स्वाधीन था तथा यहाँ पर प्राय: सभी  प्रकार की सुख-समृधि थी । जबसे वर्णाश्रम-धर्म के पालन में अवेहलना होने लगी, तभी से हमारी दशा बिगड़ने लगी । इतने पर भी वर्णाश्रम-धर्म की द्रढ़ता ने ही हिन्दू जाति को बचाए रखा है ।

वर्णाश्रम  न होता और उसपर हिन्दू जाति की आस्था न होती तो शताब्दियों में होने वाले आक्रमणों से और विजेताओ के प्रभाव से हिन्दू जाति से अब तक नष्ट हो गयी होती । Continue reading

Categories: Education & Training, Holistic Healing, Life Style, Religious

आइये अपने 16 संस्कारों के बारे में जानें ….

आइये अपने 16 संस्कारों के बारे में जानें ….

1.गर्भाधान संस्कार –
ये सबसे पहला संस्कार है l बच्चे के जन्म से पहले माता -पिता अपने परिवार के साथ गुरुजनों के साथ यज्ञ करते हैं और इश्वर को प्रार्थना करते हैं की उनके घर अच्छे बचे का जन्म हो, पवित्र आत्मा, पुण्यात्मा आये l जीवन की शुरूआत गर्भ से होती है। क्योंकि यहां एक जिन्दग़ी जन्म लेती है। हम सभी चाहते हैं कि हमारे बच्चे, हमारी आने वाली पीढ़ी अच्छी हो उनमें अच्छे गुण हो और उनका जीवन खुशहाल रहे इसके लिए हम अपनी तरफ से पूरी पूरी कोशिश करते हैं। ज्योतिषशास्त्री कहते हैं कि अगर अंकुर शुभ मुहुर्त में हो तो उसका परिणाम भी उत्तम होता है। माता पिता को ध्यान देना चाहिए कि गर्भ धारण शुभ मुहुर्त में हो। ज्योतिषशास्त्री बताते हैं कि गर्भधारण के लिए उत्तम तिथि होती है मासिक के पश्चात चतुर्थ व सोलहवीं तिथि (Fourth and Sixteenth Day is very Auspicious for Garbh Dharan)। इसके अलावा षष्टी, अष्टमी, नवमी, दशमी, द्वादशी, चतुर्दशी, पूर्णिमा और अमवस्या की रात्रि गर्भधारण के लिए अनुकूल मानी जाती है। Continue reading

Categories: Education & Training, Religious, Vedic Mantra & Paath

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: