ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे

ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे

तुमरे बिन हमरा कौनो नाही

हमरी उलझन, सुलझाओ भगवन
तुमरे बिन…

तुम्ही हमका हो संभाले
तुम्ही हमरे रखवाले
तुमरे बिन…

चन्दा में तुम्ही तो भरे हो चांदनी
सूरज में उजाला तुम्ही से
ये गगन है मगन, तुम्ही तो दिए हो इसे तारे
भगवन, ये जीवन, तुम्ही ना संवारोगे
तो क्या कोई सँवारे
ओ पालनहारे…

जो सुनो तो कहे
प्रभुजी हमरी है बिनती
दुखी जन को, धीरज दो
हारे नहीं वो कभी दुखसे
तुम निर्बल को रक्षा दो
रह पाएं निर्बल सुख से
भक्ति को, शक्ति दो
जग के जो स्वामी हो,
इतनी तो अरज सुनो
है पथ में अंधियारे
दे दो वरदान में उजियारे
ओ पालनहारे…

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: